स्वास्थ्य विभाग का मुख्य दायित्व जनता के स्वास्थ्य का संरक्षण करना -जिलाधिकारी

रूद्रपुर 01 अगस्त – जेएलएन जिला चिकित्सालय के सभागार में चिकित्सा
प्रबन्धन समिति की संचालक मण्डल की बैठक में प्रभारी जिलाधिकारी डा0 आशीष 
कुमार श्रीवास्तव ने चिकित्सालय के विभिन्न प्रस्तावों पर चर्चा करते हुये
महकमे के चिकित्सकों को नसीहत दी कि स्वास्थ्स विभाग का मुख्य दायित्व जनता
के स्वास्थ्य का संरक्षण करना हैं लिहाजा सभी चिकित्सक संवदेनशील रहकर
दायित्वों का निर्वहन करें। जिलाधिकारी ने सीएमओ डा0 एचके जोषी को निर्देष
दिये कि जिन लोगों को एम.एस.वी/जे.एस.एस.के/व्याधि निधि से ईलाज नही मिल
पाता है
उनको ईलाज मुहैया कराने के लिये सीडीओ की अध्यक्षता में समिति गठित
कर लें जिसमें सीएमओ सचिव तथा मुख्य कोशाधिकारी कोशाध्यक्ष एवं रूद्रपुर
तथा काषीपुर चिकित्सालयों के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक को भी षामिल किया जाय।
सोसाइटी का एकाउण्ड नं0 भी खोला जाय तथा कूपन भी जारी किये जाय ताकि लोगों
से प्राप्त धनराषि उस खातें में जमा की जायेगी,जो इलाज से वंचित लोगों को
उपचार के काम आयेगी। समिति का आडिट हर तीसरे वर्श कराया जायेगा। जिलाधिकारी
ने सीएमएस को निर्देष दिये कि राज्य ब्याधि निधि की बैठक प्रत्येक माह की
पांच तारीक को करायी जाय। उन्होने कहा ओपीडी में डिस्प्ले मषीन लगाई जाय
जिससे मरीजों को अपने नम्बर का पता चल सकें
। जिलाधिकारी ने इमर्जेन्सी हेतु
50 हजार रूपये तक की दवा खरीदने की स्वीकृति प्रदान की। उन्होने मरीजो की
सुविधा को ध्यान में रखते हुये षीतकाल हेतु एक अतिरिक्त चादर खरीदने की बात
कही। 
स्वास्थ्य विभाग का मुख्य दायित्व जनता के स्वास्थ्य का संरक्षण करना -जिलाधिकारी
 
जिलाधिकारी
ने प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक द्वारा प्रस्तुत किये गये प्रस्तावों पर कहा कि
चिकित्सालय द्वारा आकस्मिकता पर 50 हजार तक की दवाओं की स्वीकृति
जिलाधिकारी द्वारा की जायेगी तथा दवा क्रय करने हेतु गठित समिति में मुख्य
विकास अधिकारी,प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक व मुख्य कोशाधिकारी षामिल रहेंगे।
जिलाधिकारी को बताया गया कि चिकित्सालय में आवसीय व अनावासीय भवनों के
विद्युत व पेयजल कनेक्षन एक ही है जिन्हें अलग-अलग करने हेतु जिलाधिकारी ने
चिकित्सालय के ही एक कर्मचारी,एक प्रशासनिक अधिकारी व चिकित्सा अधिकारी की
 कमेटी गठित कर 10 दिन में रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देष दिये।
जिलाधिकारी ने ग्लोबल इन्वायरमेंट सोल्यूषन द्वारा वर्तमान वित्तीय वर्ष 
हेतु बायोमेडिकल वेस्ट निस्तारण के लिये उपलब्ध कराई गयी दरों की स्वीकृति
प्रदान की। जिलाधिकारी ने चिकित्सालय परिसर में दुकानों आबंटन के सम्बन्ध
में कहा कि दुकान नं0 4 इन्दिरा अम्मा केैंटीन के लिये आबंटित कर दी गई ।
षेश दुकानों के आबंटन में पूर्ण पारदर्षिता के साथ आबंटन प्रक्रिया अपनाई
जाय तथा आबटित व्यक्तियों से निर्धारित धनराशि  यथा समय वसूली सुनिष्चित की
जाय। सिडकुल काॅनकार्न के कार्मिकों को चिकित्सालय में ईलाज में प्राथमिकता
दी जायेगी।  उन्होंने कहा कि काॅनकार्न संस्था का खाता भी खोला जाय तथा
जमा धनराषि से अस्पताल की टूटी खिडकियों और अन्य छोटे कार्य किये जा सकते
है। जिलाधिकारी ने अस्पताल में सुचारू पेयजल आपूर्ति हेतु प्रमुख चिकित्सा
अधीक्षक से कहा कि वह आपसी विचार विमर्ष कर बोरिंग करवाकर पेयजल उपलब्ध
कराया जा सकता है। 
    इस अवसर पर सीएमओ डा0 एचके जोषी,अपर
निदेषक डा0 अमिता उप्रेती,प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक आरके पाण्डे,डा0एलएस
टोलिया,डा0एएन षर्मा,डा0 जयवीर सिंह,पीआर चन्दोला,श्रीमती वी माला,श्रीमती
प्रतिभा पाण्डे,गिरीष चन्द्र आर्य,डा0एमके तिवारी,एमएलए प्रतिनिधि कपिल
षर्मा आदि लोक उपस्थित थे।

Advance Digital Paper – www.adpaper.in & www.kashipurcity.com – न्यूज़, करियर , टेक्नोलोजी . #adigitalpaper

शेयर करें

Leave a Reply