'छम्मक छल्लो' बोला तो होगी जेल ! - काशीपुर ब्रेकिंग न्यूज़

Kashipur Breaking News [ www.kashipurcity.com ] Powered By : न्यूज़ वन नेशन

Breaking

Breaking News

Post Top Ad

Monday, September 4, 2017

'छम्मक छल्लो' बोला तो होगी जेल !

 Don't Say Chhammak Chhallo !

असल ज़िन्दगी हो या फ़िल्मी दुनिया महिलाओ को तरह - तरह के शब्दों से बुलाया जाता है , ऐसा ही एक शब्द है  'छम्मकछल्लो' , जिसका इस्तेमाल कई बार किया जाता है, लेकिन अब आपको इसे शब्द से दूर ही रहना होगा, क्योंकि असल जिंदगी में इस शब्द का इस्तेमाल करने पर आप कानूनी परेशानी में फंस सकते हैं। मुंबई ठाणे की एक अदालत ने एक फैसले में कहा है कि 'छम्मकछल्लो' शब्द  का इस्तेमाल करना 'एक महिला का अपमान करने' के बराबर है ।

आपने शाहरुख खान की एक फिल्म 'रॉ वन'  के गाने में इस शब्द को सुना होगा । लेकिन मुंबई में एक मैजिस्ट्रेट ने शहर के एक निवासी को 'अदालत के उठने  तक' साधारण कैद की सजा सुनाई थी और उसपर एक रुपये का जुर्माना लगाया था।  एक पड़ोसी महिला की शिकायत के  अनुसार,  9 जनवरी 2009 को जब वह अपने पति के साथ सैर से लौट रही थी, तब उसकी  एक कूडेदान से ठोकर लग गई थी। जब महिला ने कहा कि यह कूडेदान उक्त आरोपी ने सीढ़ियों पर रखा था। तो आरोपी इस दंपती पर चिल्लाने लगा और उन्हें उलटी सीधी बातें  कहने लगा और बीच में  उसने महिला को 'छम्मकछल्लो' कहकर भी पुकारा।

इस शब्द को सुनकर महिला को  गुस्सा अगया और उसने  पुलिस से संपर्क किया लेकिन पुलिस ने शिकायत दर्ज करने से इनकार कर दिया था । इसके बाद महिला ने अदालत का का दरवाज़ा खटखटाया ।

आठ साल बाद न्यायिक मैजिस्ट्रेट ने उनके मामले को उचित ठहराते हुए कहा कि आरोपी ने भारतीय दंड संहिता की धारा 509 के तहत अपराध किया है। इस धारा में शब्द, इशारे या किसी गतिविधि से महिला का अपमान करना शामिल होता है, 

मैजिस्ट्रेट ने अपने आदेश में कहा कि यह एक हिंदी भाषा का शब्द है। अंग्रेजी में इसके लिए कोई शब्द नहीं है। भारतीय समाज में इस शब्द का अर्थ इसके इस्तेमाल से समझा जाता है । अधिकतर इसका इस्तेमाल किसी महिला का अपमान करने के लिए किया जाता है। यह किसी की तारीफ  करने के लिए उपयोग नहीं होता,  इससे महिला को चिढ़ होती है और उसे गुस्सा आता है।

तो आप भी सावधान हो जाये नहीं तो किसी भी महिला को 'छम्मकछल्लो' जैसे अपमानजनक शब्द या कोई इशारा करने से जेल की हवा खानी पड़ सकती है .महिलाओं को भी इस बात का ध्यान रखना चाहिए की उनकी रक्षा के लिए ऐसे बहुत से कानून बने हुए हैं, उन्हें कभी भी अपमानित होने की जरूरत नहीं


No comments:

Post a Comment

अपनी राय दें। आर्टिकल भेजें। संपर्क करें।

Post Bottom Ad